चेचक की तरह तेजी से फैल सकता है वायरस का डेल्टा वैरिएंट

डेल्टा वैरिएंट को लेकर एक बार फिर परेशान करने वाली खबर सामने आई है। अमेरिकी स्टडी में खुलासा हुआ है! कि कोरोना का यह वैरिएंट चिकनपॉक्स (चेचक ) की तरह तेजी से फैल सकता है। अमेरिका के रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (CDC) की यह स्टडी अभी पब्लिश नहीं हुई है, लेकिन new York Times […]

BREAKING NEWS 12 new cases of corona in Madhya Pradesh, 128 active cases in the state
X

डेल्टा वैरिएंट को लेकर एक बार फिर परेशान करने वाली खबर सामने आई है। अमेरिकी स्टडी में खुलासा हुआ है! कि कोरोना का यह वैरिएंट चिकनपॉक्स (चेचक ) की तरह तेजी से फैल सकता है। अमेरिका के रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (CDC) की यह स्टडी अभी पब्लिश नहीं हुई है, लेकिन new York Times में इसका एक डॉक्युमेंट छपा है। कोरोनावायरस के दूसरे वैरिएंट्स की तुलना में डेल्टा वैरिएंट ज्यादा संक्रामक है और UK में कोरोना के 99% केस डेल्ट वैरिएंट की वजह से ही सामने आए हैं।




वायरस पर अभी तक में की गई स्टडी में चिंताजनक बात ये भी है कि वैक्सीन की दोनों डोज लगवा चुके लोग भी वैक्सीन न लगवाने वालों की तरह ही कोरोना के डेल्टा वैरिएंट को एक दुसरे में फैला सकते हैं। CDC के डायरेक्टर डॉ रोशेल पी वालेंस्की ने बताया कि वैक्सीनेशन करा चुके लोगों की नाक और गले में उतना ही वायरस होता है, जितना कि टीकाकरण न कराने वालों में, जिससे ये आसानी से फैल जाता है।

rewa mp
डेल्टा वैरिएंट पर नई चेतावनी

गंभीर रूप से बीमार होने से बचाएगी वैक्सीन

CDC के इस डॉक्युमेंट में साफ़ बताया गया है कि कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लगवाने लोग सुरक्षित हैं। वैक्सीन गंभीर बीमार होने से 90% तक बचाती है लेकिन इससे वायरस के संक्रमण और ट्रांसमिशन से बचाव कम होता है। यही वजह है कि वैक्सीनेशन के बाद भी लोग कोरोना के डेल्टा वैरिएंट से संक्रमित हुए है !




वायरस की संख्या हजार गुना ज्यादा

CDC के डॉक्युमेंट में बताया गया है कि डेल्टा वैरिएंट हवा में जितनी तेजी से वायरस फैलाता है, वो अल्फा की तुलना में 10 गुना अधिक है। डेल्टा से संक्रमित व्यक्ति में वायरस की मात्रा वायरस के मूल संस्करण से संक्रमित लोगों की तुलना में एक हजार गुना अधिक है। डेल्टा उन वायरस की तुलना में तेजी से फैलता है जिसने MERS, सार्स, इबोला, सामान्य सर्दी, मौसमी फ्लू होता है। यह चेचक की तरह ही संक्रामक है। और खतरनाक भी

डेल्टा वैरिएंट गंभीर बीमारियों का कारण बन सकता है

डेल्टा वैरिएंट का पहला मामला भारत में मिला था। इसे B.1.617.2 के रूप में जाना जाता है। डेल्टा वैरिएंट गंभीर बीमारियों का कारण भी बन सकता है। डेल्टा पर हुई इस स्टडी ने CDC वैज्ञानिकों को अलर्ट कर दिया है। अधिकारी ने कहा कि CDC इसे लेकर चिंतित है। डेल्टा गंभीर खतरा है और इस पर एक्शन लेने की जरूरत है। CDC ने 24 जुलाई तक के आंकड़े जुटाए हैं। वैक्सीनेशन करा चुके 162 मिलियन अमेरिकियों में हर हफ्ते करीब 35 हजार सिम्प्टोमैटिक इंफेक्शन मिले।




रोकथाम के उपायों का पालन करना जरूरी

CDC डॉक्युमेंट कई अध्ययनों के डेटा पर निर्भर करता है, जिसमें प्रोविंसेटाउन, मैसाचुसेट्स में वायरस के प्रकोप का विश्लेषण शामिल है। डायरेक्टर ने कहा कि वायरस को रोकने के कुछ तरीके हैं जिन पर सभी को ध्यान देना होगा। जैसे कि मास्क पहनने की सख्त जरूरत है। स्कूल में स्टूडेंट्स, स्टाफ और विजिटर्स को भी मास्क पहनना जरुरी है !

यह खबर भी पढ़िए —

Tags:
Next Story
Share it