रीवा जिले में एक ऐसा लेबररूम जहां प्रसूताओ के नाम पर कागजों में पकाया जा रहा भोजन

रीवा जिले का शिविल अस्पताल मऊगंज एकबार फिर सुर्खियों में है, इस बार मामला लेबर रूम में भर्ती प्रसूताओ के भोजन से जुड़ा है!क्योंकि यहां कई महीनों से भोजन कागजों में अधिकारी अपने सहयोगियों के माध्यम से पका रहे है! शासन के सक्त निर्देश बाद भी यहां जच्चा बच्चा के स्वास्थ्य व सुरक्षा की कोई […]

Rewa news
X
रीवा जिले का शिविल अस्पताल मऊगंज एकबार फिर सुर्खियों में है, इस बार मामला लेबर रूम में भर्ती प्रसूताओ के भोजन से जुड़ा है!क्योंकि यहां कई महीनों से भोजन कागजों में अधिकारी अपने सहयोगियों के माध्यम से पका रहे है! शासन के सक्त निर्देश बाद भी यहां जच्चा बच्चा के स्वास्थ्य व सुरक्षा की कोई परवाह नही है, इतना ही नहीं बच्चा पैदा होने के एक घंटे के अंतराल मे ही प्रसूताओं को घर भेज दिया जाता है,
rewa news hindi
rewa news hindi
जबकी लेबर रूम के रजिस्टर मे बच्चा पैदा होने के तीन दिन यानी 72 घंटे तक प्रसूताओ को भर्ती किया जाता है,इतना ही नही लेबर रुम मे भर्ती प्रसूताओ को मिलने बाला नास्ता,भोजन,फल 90 रुपए प्रतिदिन के हिसाब से 270 रूपये जो कागजो मे खर्च किया जा रहा है,आगर सही जांच हो जाय तो नाश्ता भोजन के नाम पर लाखो का भ्रस्टाचार सामने आयेगा,
इसमे रीवा सीएमएचओ की भूमिका भी संदेह के घेरे में है क्योंकि काफी लंबे समय से हो रहे इस फर्जीवाड़े की आज तक जांच नहीं हो पाई! और ना ही कोई कार्रवाई हुई जिसकी बदौलत कागजों में भोजन पकाया जा रहा है! इतना ही नहीं मैदानी कर्मचारियों को अस्पताल में अटैच कर उनके माध्यम से फर्जीवाड़े से जुड़े कागजी घोड़े दौड़ाए जा रहे हैं!अब देखना है कि रीवा कलेक्टर इस मामले में क्या कार्रवाई करते हैं,
शेष अगले अंक में…
Tags:
Next Story
Share it