शिविल अस्पताल मऊगंज का हाल बेहाल,मैदानी कर्मचारी लगाते है डॉक्टरों की ड्यूटी

रीवा जिले के सिविल अस्पताल मऊगंज का हाल इन दिनो बेहाल है,जिनकी पदस्थापना शासन की योजनाओं का क्षेत्रीय लोगो को भरपूर लाभ दिलाने के हिसाब से ग्रामीण शहित सहरी क्षेत्रों में की गई थी,वे मैदानी कर्मचारी अस्पताल में कुंडली मारकर बरसों से अंगद की तरह पैर जमा कर बैठे हैं,इतना ही नहीं यही मैदानी कर्मचारी […]

शिविल अस्पताल मऊगंज
X

रीवा जिले के सिविल अस्पताल मऊगंज का हाल इन दिनो बेहाल है,जिनकी पदस्थापना शासन की योजनाओं का क्षेत्रीय लोगो को भरपूर लाभ दिलाने के हिसाब से ग्रामीण शहित सहरी क्षेत्रों में की गई थी,वे मैदानी कर्मचारी अस्पताल में कुंडली मारकर बरसों से अंगद की तरह पैर जमा कर बैठे हैं,इतना ही नहीं यही मैदानी कर्मचारी जो क्लास वन माने जाने बाले डॉक्टरों की ड्यूटी भी लगा रहे है! यह सब बीएमओ डॉक्टर एसडी कोल और मैदानी कर्मचारी मिलकर अस्पताल में पदस्थ डॉक्टरों की भावनाओं को ठोस पहुचाने के साथ उन्हे हीन दिखाने के हिसाब से किया जा रहा है,जिसके कारण यहां गुटबाजी भी पनपने लगी है,जो मऊगंज अस्पताल के लिए शुभ संकेत नहीं है!

rewa news hindi
शिविल अस्पताल मऊगंज

अधिकारियों के नजर अंदाज से बेपटरी हुई स्वास्थ्य सेवाएं

सीएमएचओ डॉक्टर नरेंद्र नाथ मिश्रा कभी भी शिविल अस्पताल मऊगंज की व्यवस्था सुधारने का प्रयाश नही किये,जिसकी बदौलत आज मऊगंज के साथ-साथ समुदायिक स्वास्थ केन्द्र ढेरा और मलैगवा की भी स्वास्थ्य सेवाएं पटरी से उतर चुकी हैं,वहां की अस्पतालों से भी शाम ढलते ही अक्सर कर्मचारी गायब हो जाते हैं,जिसकी वजह से प्रसूताओं को मऊगंज अस्पताल में भर्ती कराना पड़ता है! जबकि शासन द्वारा जनता की सुविधा के हिसाब से ढेरा सहित मलैगवा मे स्वास्थ्य केंद्र खोला गया था,

ये भी पढ़िए

लेबररूम वा एनआरसी मे पोषण आहार वा भोजन के नाम पर हर माह होता है हजारों का घोटाला

सिविल अस्पताल मऊगंज की व्यवस्थाएं जहां एक तरफ वेपटरी हो चुकी हैं,वही यहां भ्रष्टाचार भी चरम पर है,लेबर रूम में जहां भोजन के नाम पर फर्जीवाड़ा हो रहा है,वही एनआरसी का पोषण आहार भी भ्रष्टाचार का भेंट चढ़ गया,हर महीने फर्जी बिल वाउचर के सहारे हजारों रुपए की हेरा फेरी हो रही है,लेबर रूम मे भर्ती प्रसूताओं को बच्चा पैदा होने के घंटों बाद ही घर भेज दिया जाता है,पर उन्हें कागजों में तीन दिवस तक लगातार डाइट के हिसाब से भोजन परोसा जाता है,

एंबुलेंस में प्रसव मामले में बीएमओ सहित पांच को नोटिस

रीवा जिले के स्वास्थ्य विभाग की किरकिरी किसी से छिपी नहीं है, शिविल अस्पताल मऊगंज आने वाले मरीज जहा अव्यवस्था से जूझ रहे हैं, वही इसी बीच प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मनिकबार का ताजा मामला भी सामने आ गया,जहा चिकित्सकों व अन्य कर्मचारियों की लापरवाही पर 5 लोगों को नोटिस जारी किया गया है!एक दिन पहले अस्पताल में ताला बंद होने के कारण महिला का एंबुलेंस में ही प्रसव हो गया था! महिला इस दौरान करीब घंटे भर अस्पताल के बाहर दर्द से कराहती रही, त्वरित उपचार न मिल पाने के कारण नवजात बच्ची की मौत हो गई थी, इस घटना के बाद स्वास्थ्य सेवाओं पर सवाल खड़े हुए, तो सीएमएचओ एन एन मिश्रा ने रायपुर कर्चुलियान के बीएमओ सहित उप स्वास्थ्य केंद्र प्रभारी वा नर्सिंग स्टाफ को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा है!

Tags:
Next Story
Share it